Astrology

Navratra 2018 Maa Chandraghanta Poojavidhi : Navratra 2018: Third Day Of Navratra, Know Maa Chandraghanta Poojavidhi | Chandraghanta Puja Vidhi: नवरात्र का तीसरा दिन, मां चंद्रघंटा की पूजा से प्राप्‍त करें तेज और ऐश्‍वर्य – Photo


आज नवरात्र का तीसरा दिन है और तृतीया को मां दुर्गा के चंद्रघंटा स्‍वरूप की पूजा-अर्चना की जाती है। मां का यह स्‍वरूप परमशक्तिदायी और तेजपूर्ण है। मां के मस्‍तक पर घंटे के आकार में अर्द्धचंद्र सुशोभित है, इसलिए देवी के इस स्‍वरूप को चंद्रघंटा कहा जाता है…

1/5स्‍वर्ण समान आभा



मां का तेज स्‍वर्ण समान आभा लिए होता है। इसीलिए माना जाता है है कि मां चंद्रघंटा की उपासना से भक्‍तों को तेज और ऐश्‍वर्य की प्राप्ति होती है। मां के घंटे की ध्‍वनि अपने भक्‍तों को सभी प्रकार की प्रेतबाधाओं से दूर रखती है।

2/5मां चंद्रघंटा की पूजाविधि



चौकी पर स्‍वच्‍छ वस्‍त्र पीत बिछाकर मां चंद्रघंटा की प्रतिमा को स्‍थापित करें। इस स्‍थान को गंगाजल छिड़ककर शुद्ध करें। व्रत का संकल्‍प लेकर वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां चंद्रघंटा सहित समस्त स्थापित देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। मां को गंगाजल, दूध, दही, घी शहद से स्‍नान कराने के पश्‍चात वस्‍त्र, चंदन, रोली, हल्‍दी, सिंदूर, पुष्‍प, मिष्‍ठान और फल का अर्पण करें।

3/5मां चंद्रघंटा का मंत्र



नवरात्र के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा का ध्‍यान करते हुए इस मंत्र का जप करें।
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।

4/5भोग में होनी चाहिए ये विशेषता



मां चंद्रघंटा के भोग में गाय के दूध से बने व्‍यंजनों का प्रयोग किया जाना चाहिए। मां को लाल सेब और गुड़ का भोग लगाएं।




Source link

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close
Skip to toolbar